अवैध निर्माण पर चला पीला पंजा, फिर भी  दस गुणा बढ़ गए हैं अवैध निर्माण

0
437

FARIDABAD NEWS (CITYMAIL NEWS ) नगर निगम आयुक्त मोहम्मद शाईन का अवैध निर्माणों पर एक्शन जारी है। शुक्रवार को श्री शाईन के आदेश पर बाटा चौक स्थित गगन सिनेमा में बन रहे अवैध निर्माण पर कहर बरपा। वहां दो दुकानों का अवैध रूप से निर्माण किया जा रहा था। जैसे ही श्री शाईन को इसकी जानकारी मिली, तत्काल उन्होंने वहां बुलडोजर भेजकर कार्रवाई के आदेश दिए। नगर निगम की इंजीनियरिंग ब्रांच के अधिकारियों की टीम ने मौके पर जाकर देखते ही देखते अवैध निर्माण मिट्टी में मिला दिए।
 श्री शाईन ने अपना कार्यभार संभालते ही सबसे पहले नगर निगम के तोडफ़ोड़ विभाग को समाप्त करने के आदेश जारी किए थे। उन्होंने यह जिम्मेदारी वार्ड वाईज इंजीनियरिंग ब्रांच को सौंपी। उनके आदेश से बेशक यह काम आज भी संबंधित वार्ड के जेई व एसडीओ संभाल रहे हैं, लेकिन इसके बावजूद शहर में अवैध निर्माण पहले से दस गुणा अधिक बढ़ गए हैं। यह अलग बात है कि जैसे ही श्री शाईन को अवैध निर्माणों की शिकायत मिलती है, वह तत्काल वहां तोडफ़ोड़ अवश्य करवाते हैं।
जबकि असल हकीकत तो यह है कि श्री शाईन ने जब से इंजीनियरिंग ब्रांच के हवाले ये काम दिया है, तब से अवैध निर्माणों की संख्या में बेहताशा बढ़ोतरी हुई है। आज भी शहर में हर जगह अवैध निर्माण होते दिखाई दे जाते हैं। इसका असल कारण भी यह है कि इंजीनियरिंग ब्रांच के अधिकारी पहले से ही काम के बोझ तले दबे हुए हैं। उन पर पानी, सीवर, सडक़,जैसे विकास कार्यों की  महत्वपूर्ण जिम्मेदारी कहीं अधिक है। लेकिन जब से उन्हें तोडफ़ोड़ विभाग के अतिरिक्त कार्य की जिम्मेदारी दी गई है, उनका मूल कार्य बेहद प्रभावित हुआ है। इंजीनियरिंग ब्रांच के अधिकारी भी यही मानते हैं। उनका कहना है कि जितना हो सकता  है वह अपनी जिम्मेदारी निभाते हैं, लेकिन इस चक्कर में वह पानी, सीवर व विकास कार्य के अपने काम को बेहतर ठीक ढंग से नहीं कर पा रहे हैं। तोडफ़ोड़ का काम देने के चक्कर में अधिकारी दोनों में कोई भी काम नहीं कर पा रहे हैं, जिस वजह से शहर में अवैध निर्माणों की संख्या पहले से दस गुणा अधिक बढ़ गई है। यहां बता दें कि अवैध निर्माण शहर के लिए नासूर बन चुके हैं। इसलिए इस कार्य को रोकने के लिए अलग विभाग की आवश्यकता अधिक है। हालांकि इसमें एक पेंच यह भी है कि अवैध निर्माण को जितना रोका जाता है, उतने ही वह बढ़ते जाते हैं। इसमें राजनैतिक हस्तक्षेप भी एक बड़ी वजह है। इसलिए श्री शाईन को यदि इस कार्य पर लगाम लगानी है तो उन्हें पहले जैसे ही अलग विभाग को गठित करना होगा। लेकिन यह सुनिश्चित करने की जरूरत होगी कि इस विभाग की जिम्मेदारी ईमानदार अधिकारियों के  हवाले की जाए। संभवतय: तभी इस पर लगाम लगाई जा सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here