जेल में बंद बांग्लादेशी को उनके घर भेजा जाएगा : न्यायमूति जैन

0
337

FARIDABAD NEWS (CITYMAIL NEWS ) पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति राकेश कुमार जैन ने कहा कि जेल में बंद बांग्लादेशी नागरिकों को जल्दी ही उनके घर भेजा जाएगा। उन्होंने जेल के अधिकारियों को इससे संबंधित कागजात तैयार करने के आदेश दिए। वे शुक्रवार को सेक्टर 12 स्थित अदालत का निरीक्षण करने के बाद नीमका गांव स्थित जिला जेल का दौरा करने के लिए गए थे। इस दौरान उन्होंने बाल सुधारगृह का निरीक्षण करने के बाद जिले के न्यायाधीशों की एक बैठक भी ली।

जिला विधिक प्राधिकरण की अध्यक्ष एवं जिला सत्र न्यायाधीश दीपक गुप्ता ने बताया कि न्यायमूर्ति राकेश कुमार जैन शुक्रवार को जिले का दौरा करने के लिए आए थे। सबसे पहले उन्होंने सेक्टर 12 स्थित अदालत का निरीक्षण किया। अदालत परिसर की व्यवस्था को देख कर उन्होंने संतुष्टि जताई।

जिसके बाद उन्होंने नीमका जेल का दौरा किया। जहां उन्होंने जेल में बंद कैदियों से भी बातचीत की। उन्होंने कैदियों से पूछा कि उन्हें किसी तरह परेशानी तो नहीं हो रही है। उन्हें सरकार द्वारा दी जा रही सुविधाओं का लाभ मिल रहा है। जेल के निरीक्षण के दौरान उन्हें पता चला कि जेल में काफी संख्या में बांज्लादेशी नागरिक भी बंद है। जिसके बाद उन्होंने जेल अधिकारियों को इनके कागजात तैयार करने के आदेश दिए। ताकि उन्हें उनके घर तक पहुंचाया जा सके। उन्होंने कहा कि वर्ष 2018 महिला वर्ष घोषित किया गया है। इसलिए महिला कैदियों के लिए जेल में विभिन्न तरह के कोर्स शुरू करने के आदेश दिए। इस दौरान उन्होंने जेल में बनाए गए कॉन्फ्रेंस हॉल का उद्घाटन किया। जिसके बाद न्यायमूर्ति राकेश कुमार जैन और जिला सत्र न्यायाधीश दीपक गुप्ता ने जेल परिसर में पौधारोपण किया।

इसके बाद उन्होंने एनएच पांच स्थित बाल सुधारगृह का निरीक्षण किया। जहां उन्हें निरीक्षण के दौरान उन्हें पता चला कि जिले में किशोरियों के अलग अलग बाल सुधार गृह की व्यवस्था नहीं है। उन्होंने किशोरियों के रहने के लिए अलग बाल सुधार गृह बनाने के आदेश दिए। साथ ही उन्होंने कहा कि यहां बंद बच्चों के लिए मेडिटेशन की व्यवस्था की जाए। ताकि यह बच्चे गलत रास्ते को छोड़ कर मुख्यधारा से जुड़ सके।
अंत में न्यायमूर्ति राकेश कुमार जैन ने सेक्टर 12 पहुंच कर जिला में तैनात न्यायाधीशों की बैठक ली। जिसमें उन्होंने न्यायाधीशों को कई तरह के दिशा निर्देश दिए।

इस मौके पर उन उनके साथ जिला सत्र न्यायाधीश दीपक गुप्ता, अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश वाईएस राठौर, फैमिली कोर्ट की सत्र न्यायाधीश सरिता गुप्ता, अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश जेसमीन शर्मा, विरेंद्र मलिक, विरेंद्र प्रसाद, देवेंद्र सिंह, सौरभ गौसाई, राजेश मल्हौत्रा, कंचन माही, कुलदीप सिंह, अतिरिक्त मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी तरूण सिंघल, मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी अशोक कुमार, मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी एवं सचिव मोना सिंह, जेएमआईसी मानसी गौड, अलोक आनंद, जितेंद्र सिंह और अन्य न्यायाधीश मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here