इस नाबालिक बच्ची के मुंह से सुनिए नक्सल वादियों के जुल्म की दास्तान

0
301

New Delhi News (Citymail News ) चाईबासा पुलिस अधीक्षक अनीश गुप्ता के अनुसार कराईकेला थाना क्षेत्र के इंद्रवा की एक नाबालिग लड़की भाकपा माओवादी के रीजनल कमांडर जीवन कंडुलना के दस्ते के साथ रहती थी। जो उसके चाचा ने पेसो के लालच में जबरदस्ती बेच दिया था | वह नक्सलियों के जुल्म व प्रताड़ना से तंग आकर दस्ते से भागकर घर आई है। इसी आधार पर महिला पुलिस के सहयोग से उसे चक्रधरपुर महिला थाना लाया गया। लड़की ने चक्रधरपुर महिला थाना में पोस्को एक्ट के तहत नक्सलियों के खिलाफ मामला दर्ज कराया है।
उसने बताया कि नक्सली जीवन कंडुलना, रामबीर कालिया और सूर्या लगातार रायफल का भय दिखाकर शारीरिक शोषण करते थे। जूठे बर्तन मंजवाते, खाना बनवाते व कपड़ा धोने का काम करवाते थे। 26 जनवरी को पुलिस के साथ जीवन कंडुलना के दस्ते की मुठभेड़ हुई। इसके बाद मौका देखकर दस्ते से भाग कर वह घर पहुंच गई। एसपी ने तत्काल 10 हजार रुपये की मदद पुलिस विभाग की ओर से की।
पीड़िता ने बताया कि नक्सलियों के चंगुल में ओर भी लड़कियां फंसी हैं। वह भी दस्ता छोड़ कर भागना चाहती हैं लेकिन भागने में सफल नहीं हो पा रहीं। सभी को बंदी बना कर रखा हुआ है। पीड़िता ने बताया कि वर्तमान में जीवन कंडुलना पोड़ाहाट के जोगोबेड़ा, जोजोगड़ा, रायबेड़ा, सेरेंगदा आदि क्षेत्रों में रह रहा है। गांव में दबाव बनाकर कम उम्र के लड़के एवं लड़कियों को दस्ते में शामिल कर लेता है।
नक्सलियों के चंगुल से भाग कर पुलिस के पास पहुंची नाबालिग को डिस्ट्रिक्ट लीगल सविर्स अथॉरिटी (डीएलएसए) के माध्यम से पोक्सो एक्ट के तहत जो मदद होगी वह दी जाएगी। डीएलएसए सचिव से इस संबंध में बात की गई है। गांव में उसकी नानी रहती है। उन्हें भी लाकर सरकारी सुविधा का लाभ दिया जाएगा।

Googleadvertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here