हरियाणा में 30 करोड़ रुपए का पाइप घोटाला , सकते में है मनोहर सरकार

0
608

Chandigarh News (Citymail News ) हरियाणा सरकार ने वर्ष 2010-14 के दौरान गुरुग्राम नगर निगम में नियमों का पालन किए बिना 30 करोड़ रुपये के डीआई पाइप खरीद मामले की जांच राज्य चौकसी ब्यूरो से करवाने के निर्देश दिए हैं। शहरी स्थानीय निकाय मंत्री श्रीमती कविता जैन के  यह जानकारी देते हुए बताया कि नगर निगम गुरुग्राम में पाइपों की खरीद में अनियमितता को लेकर तत्कालीन वरिष्ठ उप-महापौर यशपाल बत्रा द्वारा शिकायत देकर जांच की मांग की गई थी। जिस पर विभागीय रिपोर्ट में तत्कालीन मुख्य अभियंता बी.एस. सिंगरोहा द्वारा लापरवाही बरतने से राजस्व हानि होने का मामला सामने आया। उन्होंने कहा कि मामले की गंभीरता को देखते हुए पूरे मामले की राज्य चौकसी ब्यूरो से जांच कराने का प्रस्ताव भेजा गया, जिसे मुख्यमंत्री  मनोहर लाल ने सहमति प्रदान कर दी है। मंत्री ने कहा कि तत्कालीन वरिष्ठ उप-महापौर यशपाल बत्रा की शिकायत पर जांच करने के दौरान चंडीगढ़ मुख्यालय पर अधिकारियों द्वारा एक रिपोर्ट तैयार की गई थी। जिसमें पता चला कि मुख्य अभियंता द्वारा 50 लाख रुपये तक की खरीद की मंजूरी देने का अधिकार है, लेकिन वर्ष 2010-14 के दौरान गुरुग्राम नगर निगम में तत्कालीन मुख्य अभियन्ता  ने नियमों को ताक पर रखते हुए 30 करोड़ रुपये के डीआई पाइप की खरीद कर दी। इसमें वित्तीय अनियमितता की गंभीरता को देखते हुए तथा जांच को स्वतंत्र एजेंसी से कराने पर महानिदेशक शहरी स्थानीय निकाय विभाग द्वारा प्रस्ताव दिया गया।

Googleadvertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here