भूमाफियाओं पर डीसी यशपाल का प्रहार, गलत रजिस्ट्री पर क्लर्क सस्पैंड, सफेदपोश माफिया के निशाने पर हैं बंद उद्योग - The Citymail Hindi

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

Saturday, February 29, 2020

भूमाफियाओं पर डीसी यशपाल का प्रहार, गलत रजिस्ट्री पर क्लर्क सस्पैंड, सफेदपोश माफिया के निशाने पर हैं बंद उद्योग


Faridabad News (citymail news ) भूमाफियाओं पर प्रहार करते हुए फरीदाबाद के डीसी यशपाल यादव ने कड़ा कदम उठाते हुए तहसील विभाग के एक क्लर्क को सस्पैंड किया है। आरोप था कि सैक्टर 12 लघु सचिवालय के तहसील विभाग में कार्यरत रजिस्ट्री क्लर्क बिजेंद्र अवैध कालोनियों की रजिस्ट्री के धंधे में संलप्ति था। कई बार शिकायत आने पर डीसी यादव ने इसकी जांच करवाई तो पुष्टि हो गई। उन्होंने एक्शन लेते हुए तत्काल क्लर्क को सस्पैंड कर दिया। डीसी यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल के सख्त आदेश हैं कि अवैध कालोनियों की रजिस्ट्री ना की जाए। सरकार के आदेशों पर उन्होंने जिले की सभी तहसीलों में सख्त हिदायत दी थी। पंरतु इसके बावजूद उक्त क्लर्क सरकारी आदेशों को ठेंगे पर रखकर अवैध कालोनी काटने वाले माफियाओं से मिलीभगत करके रजिस्ट्री करने के धंधे में लगा था। इसलिए डीसी ने सख्ती दिखाते हुए क्लर्क बिजेंद्र को तहसील कार्यालय से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। डीसी के इस कदम से सभी तहसीलों में यह संदेश चला जाएगा कि माफियाओं से मिलीभगम का परिणाम क्या होगा।
उल्लेखनीय है कि सरकार का नियम है कि टाऊन एंड कंट्री प्लानिंग इंफोर्समेंट द्वारा जारी अनापत्ति प्रमाण पत्र के बाद ही कालोनियों में रजिस्ट्री की जा सकती है। मगर इन नियमों को ताक पर रखकर पिछले काफी समय से अवैध कालोनियों की रजिस्ट्री होने के कई मामले सामने आ चुके हैं। डीसी यादव ने इन शिकायतों पर संज्ञान लेते हुए जिले की तहसीलों को सख्ती से उक्त नियम का पालने करने के निर्देश दिए हैं। नियम ना मानने पर ही रजिस्ट्री क्लर्क बिजेंद्र पर गाज गिरी है। डीसी यादव ने कहा कि अवैध कालोनियों में रजिस्ट्री होने की शिकायत आने पर तत्काल कार्रवाई की जाएगी। बता दें कि इन दिनों शहर में एक ऐसा सफेदपोश गिरोह भी सक्रिय है , जोकि बंद पड़ी फैक्ट्री औने-पौने दामों में खरीदकर तहसील विभाग की मिलीभगत से अवैध रूप से रजिस्ट्री करवाकर उन प्लाटों को मंहगे दामों पर बेचने में लगा है। यदि इस मामले की जांच की जाए, तो अन्य तहसीलों में भी कई कर्मचारियों पर गाज गिर सकती है। ये माफिया फैक्ट्री का बिना सबडिवीजन करवाए इस धंधे को संचालित कर रहा है। जिससे राज्य सरकार को राजस्व के तौर पर करोड़ों रुपए का चूना भी लग रहा है।


No comments:

Post a Comment

Ads