निर्भया गैंगरेप: फांसी से पहले बुरी तरह गिड़गिड़िया विनय, कहा- मुझे माफ कर दो...मुझे नहीं मरना - The Citymail Hindi

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

Friday, March 20, 2020

निर्भया गैंगरेप: फांसी से पहले बुरी तरह गिड़गिड़िया विनय, कहा- मुझे माफ कर दो...मुझे नहीं मरना


New Delhi News (citymail news ) 16 दिसंबर 2012 की रात निर्भया के साथ हैवानियत का गंदा खेल खेलने वालों चारों दरिंदों को फांसी दे दी गई है। सात साल बाद आज जाकर निर्भया और उनके परिवार वालों को न्याय मिला। दोषियों के लिए बीती रात बहुत ही भयानक रही और ये लोग पूरी रात सो नहीं पाए और बार-बार जेल कर्मियों से पूछते रहे कि क्या अदालत से कोई ऑर्डर आया है। 

रोने लगा विनय

 

चारों दोषियों में में से एक विनय फांसी से ठीक पहले बुरी तरह गिड़गिड़ाने लगा और जिंदगी की भीख मांगने लगा। विनय लगातार कहता जा रहा था कि मुझे नहीं मरना...मुझे माफ कर दो...फंदे पर लटकाने से पहले जब दोषियों को नहाने और कपड़े बदलने के लिए कहा गया, तो दोषी विनय ने कपड़े बदलने से इनकार कर दिया। इसके अलावा उसने रोना शुरू कर दिया और माफी मांगने लगा। 

 

 

ऐसे बीती रात 

निर्भया के दोषियों के लिए 19 मार्च यानी अपनी आखिरी रात काटना भारी पड़ गया। चारों (मुकेश, अक्षय, विनय और पवन) को नींद नहीं आई। सिर्फ दो ने ही खाना खाया। तिहाड़ प्रशासन ने चारों को अलग-अलग सेल में रखा था। 24 घंटे पहले से मॉनिटरिंग शुरू हो गई थी। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि जेल अधिकारियों को जानकारी मिली थी कि ये चारो अपने आप को चोट पहुंचा सकते हैं ताकि फांसी से बच सके। इससे पहले रात को मुकेश-विनय ने डिनर किया था। वहीं पवन और अक्षय रातभर बेचैन रहे। परंतु उनके तमाम यत्न किसी काम नहीं आए और बुधवार की तडक़े सभी को फांसी पर लटका दिया गया। 

No comments:

Post a Comment

Ads