हाईकोर्ट के आदेशों को चुनौती: अवैध निर्माणों की टूटने लगी सीलिंग, कमिश्नर ने चुप्पी साधी - The Citymail Hindi

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

Wednesday, March 4, 2020

हाईकोर्ट के आदेशों को चुनौती: अवैध निर्माणों की टूटने लगी सीलिंग, कमिश्नर ने चुप्पी साधी


Faridabad News (citymail news ) हाईकोर्ट के आदेश पर एनआईटी में अवैध निर्माणों की सीलिंग नगर निगम के गले की फांस बन गई है। प्रभावित निर्माणदाताओं में से अनेक लोगों ने अपनी सीलिंग तोडक़र दुकानें खोलनी शुरू कर दी हैं । जोकि सीधे तौर पर हाईकोर्ट के आदेशों की उल्लघंना है। परंतु नगर निगम को इससे कोई फर्क नहीं पड़ रहा है। राजनैतिक हस्तक्षेप के चलते निगम आयुक्त यश गर्ग ने इस मामले में अपनी आंखें बंद कर ली हैं। यही वजह है कि हाईकोर्ट के आदेशों की सरेआम धज्जियां उड़ रही हैं और निगम आय़ुक्त चुप्पी साधे हुए हैं। बता दें कि समाजसेवी केएल गेरा ने वर्ष 2008 में शहर में होने वाले अवैध निर्माणों को लेकर हाईकोर्ट में एक याचिका दाखिल की थी। जिसमें उन्होंने इन अवैध निर्माणों की वजह से पार्किंग व यातायात व्यवस्था की दुर्गति का हवाला दिया था। मगर निगम प्रशासन ने उस याचिका पर कोई कार्रवाई नहीं की। इसके बाद गेरा ने वर्ष 2012 में निगम प्रशासन के खिलाफ अवमानना याचिका दायर की इस याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने पिछले दिनों एक 40 अवैध निर्माणों को तोडऩे के आदेश दिए थे। पंरतु निगम प्रशासन ने राजनैतिक शह की आड़ में सभी अवैध निर्माणों को तोडऩे की बजाए उनकी सीलिंग कर दी ।


24 फरवरी को सीलिंग की कार्रवाई की गई और 25 फरवरी को निगम आयुक्त सारे मामले की रिपोर्ट लेकर हाईकोर्ट पहुंच गए। पंरतु हाईकोर्ट ने निगम प्रशासन की कार्रवाई पर असंतोष जताया और उन्हें तोडक़र प्रत्येक निर्माण का स्पीकिंग आर्डर जारी कर अदालत में पेश करने के आदेश दिए । इस कार्रवाई के लिए निगम आयुक्त यश गर्ग को 6 सप्ताह का समय दिया गया है। मगर हाईकोर्ट के आदेशों को अमल में लाने की बजाए आयुक्त चुप्पी साधे हुए हैं। बताया जा रहा है कि प्रभावित निर्माणकर्ताओं की राजनैतिक सिफारिश के सामने नगर निगम को हाईकोर्ट के आदेश बौने लगे रहे हैं। यही कारण है कि सभी निर्माणों पर कार्रवाई करना तो दूर बल्कि जिन्हें सील किया गया था, उनमें से कईयों ने अपनी दुकानें खोल ली हैं , जोकि सीधे तौर पर हाईकोर्ट को चुनौती देना माना जा रहा है। इसके अलावा तिकोना पार्क में भी निगम की तत्कालीन ज्वाइंट कमिश्नर आशिमा सांगवान ने आधा दर्जन से भी अधिक ईमारतों को सील किया था, मगर निगम के आदेशों को ठेंगे पर रखकर वह सभी अवैध बिल्डिंग भी सील तोडक़र खोल ली गई हैं। इनके अलावा चिमनी बाई धर्मशाला 3 नंबर से लेकर तिकोना पार्क तक जितने भी अवैध निर्माण सील किए गए थे, वह सभी अब खुले हुए दिखाई दे रहे हैं। इससे साफ होता है कि शहर में कानून व्यवस्था का जमकर माखौल उड़ाया जा रहा है और निगम प्रशासन अपने हाथ बांधे बैठा है। इस मामले में एक्सईएन इंफोर्समेंट का कहना है कि उनके संज्ञान में ऐसी शिकायत नहीं आई है। वह इसकी जांच करवाएंगे और जो कार्रवाइ बनेगी, वह हर हाल में की जाएगी। न्यायिक आदेशों का पूरा पालन करवाया जाएगा


No comments:

Post a Comment

Ads