मुसीबत बना हरियाणा का शराब घोटाला, खेमका को जांच सौंपने पर परेशान सरकार - The Citymail Hindi

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

Saturday, May 9, 2020

मुसीबत बना हरियाणा का शराब घोटाला, खेमका को जांच सौंपने पर परेशान सरकार

 
Chandigarh News (citymail news ) हरियाणा के गृह मंत्री  अनिल विज ने कहा कि लॉकडाउन अवधि के दौरान शराब के ठेके बंद होने के कारण सोनीपत जिले के खरखौदा सहित पूरे राज्य में अवैध शराब की बिक्री के सभी मामलों की जांच के लिए एक वरिष्ठ आईएएस अधिकारी के नेतृत्व में तीन सदस्यीय विशेष जांच दल गठित किया गया है, जो एक महीने के अन्दर अपनी रिपोर्ट देगा। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक तथा अतिरिक्त आबकारी एवं कराधान आयुक्त इस जांच दल के सदस्य होंगे। श्री विज ने कहा कि आईएएस अधिकारियों में अशोक खेमका,  संजीव कौशल व  टी.सी गुप्ता में से एक तथा आईपीएस  सुभाष यादव व अतिरिक्त आबकारी आयुक्त  विजय सिंह जांच करेंगे। , बता दें कि गृहमंत्री अनिल विज  इस घोटाले की जांच के लिए गठित एसआईटी में वरिष्ठ  आईएएस अधिकारी अशोक खेमका को शामिल करवाना चाहते हैं। उन्हें भली भांति पता है कि खेमका के रहते जांच पूरी तरह से निष्पक्ष व बिना प्रेशर के संभव हो सकेगी। इसलिए उन्होंने तीन आईएएस अधिकारियों के पैनल में सीएम कार्यालय को अशोक खेमका का नाम सबसे ऊपर भेजा है। वहीं दूसरी ओर चर्चा है कि सीएम कार्यलय के कई अधिकारी नहीं चाहते कि एसआईटी में खेमका शामिल हों। खेमका का नाम इस पैनल से हटवाने के लिए लॉबिंग होने की भी खबरें आ रही हैं। हालांकि इसका फैसला संभवतय: जल्द से जल्द होने की संभावना है कि पैनल में किस अधिकारी को शामिल किया जाएगा। यह भी बता दें कि एसआईटी में वरिष्ठ आईपीएस व हाल ही में पदोन्नत हुए एडीजीपी सुभाष यादव को शामिल किया गया है। सुभाष यादव  राज्य के ईमानदार अधिकारियों में गिने जाते हैं। कहा जा रहा है कि  सरकार यदि इस घोटाले की निष्पक्ष जांच चाहती है तो सुभाष यादव के साथ अशोक खेमका को एसआईटी में शामिल करे। तभी इस घोटाले की जांच का निष्पक्ष रिजल्ट सामने आ सकता है। 
  यहां पत्रकारों से बातचीत के दौरान जब श्री विज से खरखौदा गोदाम से शराब चोरी मामले में टिप्पणी चाही तो उन्होंने अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि जब तक शराब गोदाम में रहती है, वह आबकारी विभाग की सम्पत्ति होती है। उन्होंने कहा कि अब तक आबकारी विभाग द्वारा शराब चोरी होने की एफआईआर दर्ज नहीं करवाई गई है। एफआईआर के बाद ही पुलिस जांच करेगी। उन्होंने कहा कि खरखौदा गोदाम मालिक के बारे पहले भी अवैध शराब की बिक्री में संलिप्त होने की जानकारी है। खरखौदा गोदाम से शराब की 5000 पेटियां कम मिली हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि गृह मंत्री व उप-मुख्यमंत्री के बीच इस मुद्दे को लेकर किसी प्रकार का मतभेद नहीं है।
     

No comments:

Post a Comment

Ads