दिल्ली व फरीदाबाद बार्डर पर जाम देखकर उड़ गए लोगों के होश - The Citymail Hindi

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Friday, May 29, 2020

दिल्ली व फरीदाबाद बार्डर पर जाम देखकर उड़ गए लोगों के होश


दिल्ली व फरीदाबाद बार्डर पर सीलिंग के बाद वाहनों का लंबा जाम लग गया । पुलिस ने शुक्रवार की सुबह ही फरीदाबाद बार्डर के पास लोगों के आने जाने पर पाबंदी लगा दी। सराय थाने के प्रभारी नरेश कुमार ने पुलिस बल के साथ मोर्चा संभाला और आने जाने वालों से कड़ी पूछताछ शुरू कर दी गई। देखते ही देखते दिल्ली व फरीदाबाद की सीमा के भीतर दोनों तरफ जाम की स्थिति पैदा हो गई। लोग घंटों जाम में फंसे रहे और बाद में जैसे ही मौका मिला, वहां से वापिस निकल लिए। जबकि बाईक सवार भी किसी तरह से जाम में निकलने की कोशिश करते देखे गए। बता दें कि गृहमंत्री अनिल विज की नाराजगी के बाद हरियाणा के साथ लगते दिल्ली के सभी बार्डर सील कर दिए गए हैं। इससे लोगों में अफरा तफरी का माहौल बन गया। सभी सीमाओं पर वाहनों की लंबी कतार लग गई। लोग कई कई घंटे तक जाम में फंसे रहे। इससे लोगों में पुलिस, प्रशासन व सरकार के प्रति नाराजगी भी दिखाई दी। उन लोगों को भी खासी परेशानी हुई, जो प्रतिदिन की भांति दिल्ली व फरीदाबाद अपनी नौकरी व अन्य कामों को लेकर आ जा रहे थे। इस दौरान पुलिस ने परमिशन वाले वाहनों को ही एंट्री दी, बाकि लोगों से वापिस जाने के लिए कहा गया। सुबह जैसे ही लोग बार्डर पर आने व जाने के  लिए पहुंचे तो पुलिस ने उन्हें रोकना शुरू कर दिया। देखते ही देखते कुछ देर में ही बार्डर पर दोनों ओर वाहनों की कतार लग गई। वाहनों को वापिस जाने के  लिए जगह भी नहीं मिल रही थी। इस वजह से जहां देखो वहीं वाहनो की लंबी लाईनों ने लोगों के होश उड़ा दिए। बता दें कि गृहमंत्री अनिल विज हरियाणा में बढ़ रहे कोरोना केसों की असल जड़ दिल्ली को मान रहे हैं। उनके अनुसार दिल्ली से आने जाने वालों की वजह से राज्य में सक्रंमण के  केस तेजी से बढ़े हैं। इससे परेशान होकर ही विज ने वीरवार की शाम को सभी बार्डर फिर से बंद करने के आदेश जारी कर दिए। जिसका असर शुक्रवार की सुबह बार्डर पर लंबे जाम के तौर पर देखने को मिला। कई लोग इससे सहमत थे तो कई लोग नाराज भी दिखाई दिए। लोगों ने कहा कि यह ठीक है, इससे कोरोना बढ़ रहा है, जबकि दूसरी ओर अनेक लोग इस सीलिंग की कार्रवाई से नाराज थे और कहा कि यह निर्णय पूरी तरह से गलत है। 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages