नेता व अफसरों की कोठियों पर पोंचा-झाडू व चाकरी के लिए मजबूर MCF कर्मचारी - The Citymail Hindi

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

Wednesday, May 13, 2020

नेता व अफसरों की कोठियों पर पोंचा-झाडू व चाकरी के लिए मजबूर MCF कर्मचारी

Faridabad News (citymail news ) नगर निगम फरीदाबाद के कुछ अधिकारी नौकरी से रिटायर व शहर से तबादला होने के बाद भी सरकारी कर्मचारियों को अपना नौकर बनाए हुए हैं। इन बड़े अधिकारियों को हनक है कि वह जो चाहें कर सकते हैं। यही वजह है कि निगम में नौकरी करने वाले कर्मचारी या तो इन रिटायर अधिकारियों के घर ड्राईवरी कर रहे हैं या फिर उनकी कोठियों में पोंचा-झाडू लगा रहे हैं। हैरत की बात है कि कमिश्नर को शिकायत देने के बाद भी नगर निगम के पूर्व अधिकारियों के प्रति चुप्पी साधे हुए हैं। आरटीआई एक्टिविस्ट एवं समाजसेवी विष्णु गोयल ने निगम आयुक्त यश गर्ग को व्हटसअप के जरिए यह जानकारी दी है। उन्होंने निगम आयुक्त को बताया कि कई ऐसे अधिकारी हैं, जोकि नौकरी से रिटायर हो चुके हैं , मगर आज भी उनकी व उनके परिजनों की गाडिय़ां नगर निगम के कर्मचारी ही चला रहे हैं। ऐसे ही कई अधिकारी फरीदाबाद से ट्रांसर्फर होकर रवाना हो चुके हैं, मगर उनके घरों पर यहां के  कर्मचारी ही पोंचा- झाडू लगा रहे हैं। नियम अनुसार निगम प्रशासन को इन कर्मचारियों को वापिस बुलाकर अपने काम में लगाना चाहिए। यह शिकायत हुए कई दिन हो चुके हैं, मगर खबर यह है कि अभी तक इस दिशा में कोई कार्रवाई नहीं की गई है । आपको बता दें कि नगर निगम में तमाम कर्मचारी शहर के राजनेता व कई अधिकारियों के घर व गाडिय़ों पर लगे हुए हैं। नगर निगम से बाहर के अधिकारी व राजनेताओं की कोठियों पर चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को लगाया हुआ है। जोकि वहां साफ सफाई, खाना बनाने व गाडिय़ों पर अपनी डयूटी बजाते हैं। मतलब साफ है कि वेतन नगर निगम के खजाने से और चाकरी अन्य लोगों की। इस बारे में कई बार निगम की कर्मचारी यूनियन भी कमिश्नर को अवगत करवाती रही है। उन कर्मचारियों को वापिस बुलाने की मांग की जाती रही है, मगर कोई सुनने को तैयार नहीं। बात सीधी सी है कि जिसकी लाठी, उसकी भैंस। यानि कि  प्रभावशाली नेता व अधिकारियों के घरों से कर्मचारियों को वापिस बुलाने की हिम्मत कौन जुटाए। 

No comments:

Post a Comment

Ads