विश्व में कोरोना 60 लाख और भारत 2 लाख से अधिक पर पहुंचा, 6 हजार मौतों का आंकड़ा - The Citymail Hindi

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Wednesday, June 3, 2020

विश्व में कोरोना 60 लाख और भारत 2 लाख से अधिक पर पहुंचा, 6 हजार मौतों का आंकड़ा




New DelhiNews (citymail news ) देशभर में कोरोना के मरीजों के  बढऩे का आंकड़ा इस कदर खतरनाक स्टेज पर पहुंच गया है, कि विश्व भर में भारत का नंबर सातवां हो गया है। बुधवार को देश भर में कोरोना का आंकड़ा दो लाख से भी अधिक हो गया है। 2 लाख 8 हजार कोरोना पॉजीटिव के आंकडों ने सरकार के होश उड़ा दिए हैं। इसके अलावा कोरोना से होने वाली  मृत्यु दर भी 6 हजार के पास पहुंच गई है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि उनके प्रयासों से एक लाख कोरोना मरीजों की रिकवरी भी हो पाई है। यानि कि एक लाख मरीजों को विभाग ने दुरूस्त कर अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया है। वहीं  दूसरी ओर पूरे विश्व में यह आंकड़ा 60 लाख पर पहुंच गया है और इस बीमारी से होने वाली मौतों की संख्या 3 लाख 76 हजार पर पहुंच गई है। माना जा रहा है कि इस बीमारी से लड़ते लड़ते तमाम देशों की सरकारें अपनी अर्थव्यवस्था की बलि चढ़ा चुकी हैं। इसके बावजूद यह बीमारी कंट्रोल में आने का नाम नहीं ले रही है। माना जा रहा है कि कि कोरोना से लडक़र थक चुकी सरकारें अब लॉकडाऊन खोलने की तरफ बढ़ चुकी हैं। वल्र्ड के सबसे शक्तिशाली देश माने जाने वाला अमेरिका भी भूखमरी की कगार पर पहुंचा दिखाई दे रहा है, यही वजह है कि वहां एक समुदाय के लोग भूखे मरने की बजाए लूटपाट पर उतर आए हैं। पूरे संसार ने अमेरिका की यह नंगी व दिल दहला देने वाली वीडियो देखी हैं। इससे साबित होने लगा है कि जब अमेरिका की यह स्थिति हो सकती है तो बाकि देश कहां खड़े हैं ,यह अपने आप सोचा जा सकता है। इसी कड़ी में अधिकांश देशों ने लॉकडाऊन खोलकर वापिस पटरी पर लौटने का निर्णय ले लिया है। अनेक देशों के पास अपने कर्मचारियों को देने के लिए वेतन तक नहीं है। संभवतय: भारत में भी यही स्थिति दिखाई देने लगी है। हालांकि केंद्र की मोदी सरकार ने हर मोर्चे पर अपनी जनता का साथ दिया है, मगर फिर भी लॉकडाऊन ने देश की अर्थव्यवस्था को पंचर कर दिया है। इसलिए केंद्र सरकार ने देश में लॉकडाऊन को धीरे धीरे खोलना आरंभ कर दिया हे। इसके तहत अपने देश में अधिकांश हवाई यात्रा, परिवहन सेवा, टैक्सी सेवा, बाजार व उद्योगों को खोलने का निर्णय देकर अपनी अर्थव्यवस्था को संभालने की दिशा में कदम बढ़ा दिया है। हालांकि दूसरी ओर कोरोना के केस भी लगातार बढऩा चिंताजनक माना जा रहा है। देखना अब यह है कि केंद्र की मोदी सरकार कोरोना व अर्थव्यवस्था में कैसे संतुलन कायम रख पाती है। वहीं राज्यों की स्थिति भी कम चिंताजनक नहीं है। अनेक राज्य अपने प्रदेश में कोरोना की स्थिति से बेहद परेशान हैं। उत्तराखंड में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह कोरोना से बचने के लिए क्वारंटाईन हो गए हैं। उनके राज्य के एक मंत्री सतपाल महाराज व उनके परिजन कोरोना की चपेट में हैं। उनके और भी कई मंत्री क्वारंटाईन होकर घर में कैद हो गए हैं। इसी प्रकार कई और राज्य भी अपनी अर्थव्यवस्था से परेशान दिखाई दे रहे हैं। इसलिए सब वापिस पटरी पर लाने के प्रयास आरंभ कर दिए हैं। ऐसे में लोगों को खुद ही इस बीमारी से सचेत होने की जरूरत है। 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages