एनआईटी फरीदाबाद में बस अडडे के चक्कर में तोड़ा गया अपना भोजनालय - The Citymail Hindi

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Saturday, June 6, 2020

एनआईटी फरीदाबाद में बस अडडे के चक्कर में तोड़ा गया अपना भोजनालय


 फरीदाबाद में एनआईटी बस अड्डे के बाहर स्थित चौबीस घंटे चलने वाले अपना भोजनालय नामक ढाबे को तोड़ दिया गया है। बताया गया है कि इस होटल को तोडऩे के पीछे बस अड्डे का नवनिर्माण है। पीपी मोड पर बन रहे इस बस अड्डे के चलते ही इस ढाबे को तोड़े जाने की खबर आ रही है। शनिवार को दोपहर बाद जिला प्रशासन के अधिकारी भारी पुलिस बल के साथ ढाबे पर पहुंंच गए और उसे तोडऩे की कवायद शुरू कर दी। हालांकि इस दौरान मौके पर तोडफ़ोड़ की कार्रवाई देखने के लिए भारी भीड़ इकठ्ठी हो गई और ढाबा मालिक भी इतने बड़े अमले को आया देखकर घबरा गया। आनन फानन में ढाबा मालिक को अपना सामान निकालने के लिए कहा गया। उसे स्पष्ट तौर पर चेतावनी दी गई कि या तो अपना सामान निकाल लें , अन्यथा पूरे ढाबे को तोडऩे की कार्रवाई आरंभ कर दी जाएगी। भारी पुलिस बल व अधिकारियों के जमावड़े को देखते यह खबर पूरे टाऊन में फैल गई। ढाबा मालिक को समय देकर सामान निकलवाया गया और उसे थोड़ी देर की कार्रवाई में ही तोड़ दिया गया। बताया गया है कि प्राईवेट पार्टनरशिप के अंतर्गत एनआईटी के बस अड्डे को हाईटेक लेवल पर बनाया जा रहा है। आधुनिक तर्ज पर बनाए जा रहे इस बस अड्डे में शापिंग मॉल, पार्किंग, होटल, रेस्तरा, व बस अड्डा बनाया जाएगा। एक प्राईवेट कंपनी को बस अड्डा बनाने का ठेका दिया गया है। यह कंपनी अपने खर्च पर पूरा बस अड्डा बना रही है और उसमें आधुनिक तर्ज पर सारी व्यवस्थाएं की जाएंगी। बताया गया है कि इसके चलते ही उक्त ढाबे को तोड़ा गया है। कई अधिकारियों ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया है कि होटल मालिक को काफी समय से मौखिक तौर पर आदेश दे दिए गए थे कि वह अपने होटल को हटा ले, मगर उसने ऐसा नहीं किया, जिसके चलते शनिवार को यह कार्रवाई की गई। बता दें कि यह जमीन नगर निगम के अधीन है और अपना भोजनालय के मालिक राकेश भाटिया ने बूथ एलॉट करवाकर यह होटल खोला हुआ था। कई सालों से यह होटल चौबीस घंटे की सुविधा मुहैया करवाए हुए था। पंरतु शनिवार को प्रशासन के आदेश पर एसडीएम के नेतृत्व में चली कार्रवाई के बाद उसे तोड़ दिया गया। 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages